काम की खबरबिजनेस आइडिया

सोलर पैनल का बिजनेस कैसे शुरू करें? | Solar Panel business Kaise Start Kare

अगर आप भी एक नया बिजनेस करने के लिए सोच रहे हैं तो सोलर पैनल का बिजनेस आपके लिए बहुत ही बढ़िया बिजनेस ऑप्शन है। 

solar panel business in hindi: आजकल हर घर में बिजली का इस्तेमाल हो रहा है। लोगों के घर में टीवी फ्रिज वाशिंग मशीन कूलर का होना तो आम बात है लेकिन जितना ज्यादा बिजली का इस्तेमाल किया जा रहा है। उतना ही ज्यादा बिजली के बिल की भरपाई भी करनी पड़ती है।

गांव में भी खेती के कामों में भी बिजली की बहुत ज्यादा जरूरत होती है। लेकिन सौर ऊर्जा (solar energy) एक ऐसा माध्यम है जिसमें सूरज की रोशनी से हमें बिजली से कम दाम में अधिक ऊर्जा मिलती है। 

 

ऐसे में आजकल सोलर पैनल का बिजनेस (solar panel ka business) खूब फल-फूल रहा है। अगर आप भी एक नया बिजनेस करने के लिए सोच रहे हैं तो सोलर पैनल का बिजनेस आपके लिए बहुत ही बढ़िया बिजनेस ऑप्शन है। 

 

तो आइए, द रुरल इंडिया के इस ब्लॉग में जानें- सोलर पैनल का बिजनेस कैसे शुरू करें? (Solar Panel business Kaise Start Kare)

 

आप इस ब्लॉग में जानेंगे-

  • सोलर बिजनेस क्या है
  • सोलर पैनल कैसे होते हैं
  • सोलर पैनल बिजनेस कैसे शुरू करें
  • सोलर बिजनेस के लिए रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस
  • सोलर पैनल के प्रकार
  • सोलर पैनल में लगने वाली जरूरी सामान
  • सरकारी सोलर पैनल कैसे लगाएं
  • सरकार द्वारा चलाई जाने वाली योजना
  • सोलर पैनल बिजनेस में लागत
  • सोलर पैनल बिजनेस में मुनाफा

 

सोलर पैनल बिजनेस क्या है (What is solar panel)

सोलर पैनल एक ऐसी चीज है जिसका इस्तेमाल सौर ऊर्जा से बिजली उत्पन्न करने में किया जाता है। तो ऐसे ही सोलर पैनल लगाने में उपयोग होने वाली चीजों को बेचकर अगर आप मुनाफा कमाते हैं तो उसे सोलर बिजनेस कहा जा सकता है।

 

सोलर पैनल कैसे दिखते है (Structure of solar panel)

सोलर पैनल एक चौकोर सीट की तरह होते हैं। जिसमें सौर ऊर्जा को लेकर इलेक्ट्रिकल ऊर्जा में बदलने का काम किया जाता है। जिसका उपयोग हम सब बिजली से चलने वाली चीजों को चलाने में करते हैं। सोलर सोलर ऊर्जा एक तरह से बिजली उत्पन्न करने का उपकरण है।

 

सोलर पैनल बिजनेस कैसे शुरू करें (How to start solar panel business in hindi)

सोलर पैनल का बिजनेस आप कहीं भी शुरू कर सकते हैं, चाहे वह गांव हो या शहर। हर जगह सौर ऊर्जा का इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि गांव में बिजली की खपत अधिक होती है और बिजली की कटौती भी उतनी ही अधिक होती है।

 

इस बिजनेस की शुरुआत आप कई कर सकते हैं वह निम्नलिखित हैं

सोलर एनर्जी ऑडिटिंग

आप एक सोलर ऑडिटर बन कर भी इस बिजनेस में कदम रख सकते हैं। सोलर ऑडिटर वह होता है जो इसमें इस्तेमाल होने वाले साधनों और सामानों की जानकारी ग्राहकों को देता है। जैसे किस जगह के लिए कितने वाट का सोलर पैनल लगाना चाहिए। कहां पर कितनी बिजली खपत हो सकती है आदि।

 

सोलर पैनल इंस्टॉलेशन

अगर आपको टेक्निकल ज्ञान है तो आप सोलर पैनल इंस्टॉलेशन का भी काम कर सकते हैं। क्योंकि यह सोलर पैनल लगाने में बहुत ही जरूरी काम होता है। अगर आप भी सोलर पैनल इंस्टॉलेशन का काम करते हैं तो आप इसे जोड़कर (इंस्टॉलेशन) अच्छे पैसे कमा सकते हैं।

 

सोलर प्रोडक्ट डिस्ट्रीब्यूटर  

सोलर सुविधा देने वाले उपकरण और सामानों के डिस्ट्रीब्यूटर बनकर भी आप यह बिजनेस शुरू कर सकते हैं। क्योंकि इस काम को करवाने के लिए लोगों को सोलर पैनल मैन्युफैक्चरिंग और किसी ऐसी कंपनी को ढूंढना पड़ता है। जो अच्छे सोलर पैनल डिस्ट्रीब्यूटर हैं तो आप भी किसी डिस्ट्रीब्यूटर कंपनी से जुड़कर डीलिंग कर सकते हैं। और अपने एरिया में सोलर पैनल का काम करा सकते हैं।

 

सोलर प्रोडक्ट मैन्युफैक्चरिंग

इस बिजनेस में लोगों को बड़ी मात्रा में इन्वेस्टमेंट करने की जरूरत होती है। क्योंकि इसमें इस्तेमाल होने वाली चीजें और मशीनों का मैन्युफैक्चरिंग रेट बहुत ज्यादा होता है।

इसके अंतर्गत सबसे ज्यादा मैन्युफैक्चर होने वाले सेगमेंट है सोलर लाइट सोलर गैजेट और सोलर चार्जर जिसका मार्केट में बहुत ज्यादा दाम बहुत ज्यादा डिमांड होता है। इसके अलावा मैन्युफैक्चरिंग कर के आप मुनाफा कमा सकते हैं

 

सोलर सिस्टम रिपेयरिंग और मेंटेनेंस

आजकल हर चीज को रिपेयरिंग और मेंटेनेंस की जरूरत होती है। तो अगर आपको टेक्निकल ज्ञान है तो आप सोलर सिस्टम सोलर सिस्टम में इस्तेमाल होने वाली चीजों का रिपेयरिंग करके भी पैसे कमा सकते है। इसके अलावा आपको मेंटेनेंस के लिए भी अच्छे पैसे मिल सकते है।

 

सोलर सिस्टम एसोसिएट

कोई भी कंपनी हमने सोलर सिस्टम के बारे में सभी जानकारी एक एसोसिएट को देती है। जो दूसरों को उस संसाधन के बारे में समझा कर उसको मार्केटिंग बढ़ाने में मदद करता है। जो उस कंपनी और दुकान का नाम भी बनाने में मदद करता है।

एक सोलर एसोसिएट को एक सेल पर लगभग कुछ प्रतिशत का मुनाफा दिया जाता है। अगर आप सोलर सिस्टम एसोसिएट बनना चाहते हैं। तो इसका प्रशिक्षण कहीं से लेकर बन सकते हैं।

 

इसके अलावा आप इस बिजनेस में फ्रेंचाइजी लेकर सोलर सिस्टम बिजनेस शुरू कर सकते हैं।

 

सोलर बिजनेस के लिए रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस (License and registration for solar business)

सोलर पैनल के बिजनेस में सबसे पहले आपको कुछ रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस की जरूरत पड़ेगी। जैसे- टिन नंबर (TIN Number) जीएसटी रजिस्ट्रेशन, आर्टिकल ऑफ मेमोरेंडम, आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन आदि। अगर भविष्य में किसी तरह की गलती पाई जाती है तो आपका यह लाइसेंस रद्द भी किया जा सकता है। ये सभी लाइसेंस प्राप्त करने के लिए आपको संबंधित विभाग से आवेदन करना होगा।

 

सोलर पैनल के प्रकार (Types of solar panel)

  • पॉलीक्रिस्टलाइन सोलर पैनल
  • मोनोक्रिस्टलाइन सोलर पैनल
  • हाफ कट सेल सोलर पैनल

 

सोलर पैनल में लगने वाले जरूरी सामान (Required Equipment for solar panel)

  • सोलर सेल्स
  • कीबोर्ड
  • प्रोटक्शन ग्लास
  • सोलर सेल्स को जोड़ने  वाली क्लिप बस बार
  • डायोड
  • ई वी ए शीट पैनल को नमी से बचाने के लिए
  • पीवीसी शीट वेबसाइट से मजबूती देने के लिए

 

सरकारी सोलर पैनल कैसे लगाएं (Govt scheme for solar panel)

आजकल सौर ऊर्जा से बिजली उत्पादन के लिए सरकारी सोलर पैनल भी लगाए जाने लगे हैं। जिसके लिए इस तरह से आवेदन कर सकते हैं

 

  • सबसे पहले ऑफिशल वेबसाइट https://solarrooftop.gov.in/  पर जाएं।
  • इसके बाद solar rooftop calculator पर क्लिक करें और फॉर्म को भरे।
  • इसके बाद अपने भरे गए सारे जानकारी को जांच लें।
  • फिर EMI calculation में जाकर एम आई कैलकुलेट करें। जिसमें आपको हर महीने कितना पैसा देना पड़ेगा। इसकी जानकारी मिल जाएगी।
  • इसके बाद अपने घर के सारे बिजली वाले उपकरण के कितने वाट लगते हैं। इसका कैलकुलेशन कर लें।
  • इंटरेस्ट इन इंस्टालेशन पर क्लिक करे और फिर से दिए गए फॉर्म को भरे।
  • इसके बाद फॉर्म हां को सबमिट कर दे। जिसके बाद कोड आएगा, उसे नोट कर लें।

 

प्रधानमंत्री सोलर पैनल योजना क्या है (What is Prime Minister Solar Panel Scheme)

सरकार की तरफ से किसानों को सिंचाई के लिए प्रयोग होने वाले सभी उपकरण जो बिजली से चलते हैं उसके लिए सरकार सरकारी सौर पैनल लगाने की सुविधा देती है।

 

सौर ऊर्जा के क्षेत्र में सरकार द्वारा चलाई जाने वाली योजना (government run scheme)

 

कुसुम योजना (Kusum Yojana)

यह योजना 2021 में सरकार के द्वारा लागू की गई थी। इसका उद्देश्य बिजली की खपत और बिजली के खर्च को खत्म करना है।

 

इस योजना के अंतर्गत 17 लाख 50,000  सोलर पैनल किसानों को देने की योजना बनाई गई है। जिससे सभी किसान बिजली से होने वाले काम को आसानी से कर सकें। इसके अंतर्गत 45 लाख तक लोन लेने की सुविधा भी दी गई है।

 

कुसुम योजना के लिए योग्यता (Eligibility for Kusum Yojana)

  • भारत का किसान  
  • बैंक एकाउंट और आधार होना जरूरी है
  • किसान के अपने जमीन के कागजात होना जरूरी है

 

कुसुम योजना में जरूरी दस्तावेज (Documents required in Kusum Yojana)

  • आधार कार्ड
  • बैंक एकाउंट
  • इंकम सर्टिफिकेट
  • मोबाइल नम्बर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

 

कुसुम योजना के फायदे (Benefits of Kusum Yojana)

  • 90 प्रतिशत सब्सिडी किसानों के बैंक अकाउंट में दी जाएगी।
  • बंजर भूमि पर सोलर पैनल की व्यवस्था।
  • सौर ऊर्जा को बढ़ावा देकर, बिजली की खपत कम करना।

 

सोलर पैनल बिजनेस में लागत (Investment in solar panel)

अगर आप छोटे स्तर पर भी सोलर पैनल का बिजनेस (Solar Panel business) शुरू करना चाहते हैं। तो आपको कम से कम 2 से 5 लाख तक लागत लगानी पड़ेगी। इसके अलावा आप सोलर पैनल के डिस्ट्रीब्यूटर के तौर पर काम करना चाहते हैं। तो आपको और भी ज्यादा लागत लगाने की जरूरत पड़ सकती है। लागत लगाना आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप किस तरह इस बिजनेस में कदम रखना चाहते हैं।

 

सोलर पैनल बिजनेस से मुनाफा (Profit in solar panel business)

आजकल बिजली का इस्तेमाल इतना हो रहा है कि अगर आप कोई भी बिजली उत्पादन उपकरण या किसी भी चीज से बिजली को की खपत को बचाने का काम करते हैं। तो आपको कभी भी घाटा नहीं हो सकता है। अगर आप यह काम अच्छे से करते हैं और लोगों को अच्छी सर्विस देते हैं। तो आपको महीनों में लाखों का मुनाफा हो सकता है। अगर आप सोलर पैनल के अच्छी कंपनी से कांटेक्ट करके अपने आसपास के एरिया में अच्छे ग्राहक बना लेते हैं। तो मुनाफा कमाकर आप खुद का बिजनेस भी बड़ा कर सकते हैं।

 

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

प्रश्न- सोलर एनर्जी का बिजनेस कैसे शुरू करें?

उत्तर- सोलर एनर्जी बिजनेस की शुरुआत आप किसी कंपनी का डिस्ट्रीब्यूटर बनकर कर सकते हैं। यदि आपके पास अधिक इन्वेस्मेंट करने की क्षमता है तो आप इसकी एजेंसी ले सकते हैं। बड़े व्यवसाय के लिए आप सोलर पैनल बनाने का भी काम कर सकते हैं। 

प्रश्न- भारत में सोलर बिजनेस शुरू करने के लिए कितना पैसा चाहिए?

उत्तर- भारत में सोलर बिजनेस शुरू करने के लिए 5 लाख से 10 लाख रुपए की जरूरत पड़ेगी। हालांकि यह इंवेस्टमेंट आपके बिजनेस पर निर्भर करता है कि आप किस स्तर पर सोलर बिजनेस करना चाहते हैं। 

प्रश्न- सोलर प्लांट से कमाई कैसे करें?

उत्तर- सोलर प्लांट से कमाई करने के कई तरीके हैं। आप अपनी सौर ऊर्जा को ग्रिड से जोड़कर पैसा कमा सकते हैं। इसके अलावा किसानों और अपने पड़ोसियों को बिजली बेच सकते हैं। आपको इस बिजली की कीमत 8 रुपए प्रति यूनिट तक मिल सकती है। 

प्रश्न- 5 किलोवाट में कितने पैनल लगेंगे?

उत्तर- 5 किलोवाट में 325 वाट के कुल 15 पैनल लगेंगे। 

प्रश्न- सोलर पैनल्स पर प्रॉफिट मार्जिन कितना है?

उत्तर- सोलर पैनल्स पर प्रॉफिट मार्जिन 15 से 20 प्रतिशत तक होता है। 

प्रश्न- सोलर एनर्जी लगाने में कितना खर्चा आता है?

उत्तर- सोलर एनर्जी का सेटअप करने में 15 से 25 हजार का खर्च आता है। हालांकि यह सेटअप कंपनी और उसकी क्षमता पर निर्भर करती है। 

प्रश्न- क्या सोलर बेचने से पैसा बनता है?

उत्तर- हां, सोलर बेचने से पैसा बनता है। सौर ऊर्जा से बनने वाली बिजली से आप 8 रुपए प्रति यूनिट तक कमा सकते हैं।

प्रश्न- 1 किलोवाट का सोलर प्लांट कितने का है?

उत्तर- 1kW सोलर पैनल की कीमत लगभग 30 हजार रुपये से लेकर 40 हजार रुपये तक मिलता है। हालांकि यह कीमत सोलर पैनल की क्वालिटी, क्षमता, कंपनी और बाजार पर निर्भर करता है। 

प्रश्न- भारत में सबसे बड़ा सोलर प्लांट कौन है?

उत्तर- भारत में सबसे बड़ा सोलर प्लांट तमिलनाडु के कामुती में स्थित है। इस प्लांट की 648 मेगावाट बिजली उत्पादन करने की क्षमता है। 

 

ये तो थी, सोलर पैनल का बिजनेस कैसे शुरू करें? (how to start solar energy business in hindi) की बात। यदि आप इसी तरह कृषि, मशीनीकरण, सरकारी योजना, बिजनेस आइडिया और ग्रामीण विकास की जानकारी चाहते हैं तो अन्य लेख जरूर पढ़ें और दूसरों को भी पढ़ने के लिए शेयर करें।

Related Articles

Back to top button