काम की खबरग्रामीण विकास

drip irrigation system: ड्रिप इरिगेशन सिस्टम क्या है? यहां जानें

ड्रिप इरिगेशन सिस्टम (drip irrigation) को टपक सिंचाई प्रणाली भी कहते हैं। कम पानी में अधिक खेत की सिंचाई करने के लिए यह एक अच्छी विधि है।

सिंचाई की विधि: ड्रिप इरिगेशन सिस्टम से 70 प्रतिशत तक पानी बचाएं, जानें इसके फायदे

सिंचाई की विधि (drip irrigation system in hindi): भूमि का जलस्तर गिरना एक बड़ी समस्या है। पानी की समस्या के चलते फसल उत्पादन प्रभावित होता है। ऐसे तो सिंचाई करने करने की कई विधियां प्रचलित हैं लेकिन सिंचाई टपक प्रणाली खेती के लिए सबसे उपयुक्त है। अतः पानी की समस्या को दूर करने के लिए किसान भाइयों को ड्रिप इरिगेशन सिस्टम (drip irrigation system) अर्थात् टपक सिंचाई प्रणाली का उपयोग करना चाहिए। 

तो आइए, द रुरल इंडिया के इस लेख में ड्रिप इरिगेशन सिस्टम क्या है? इस सिंचाई प्रणाली लाभ क्या है, यहां जानें। 

ड्रिप इरिगेशन सिस्टम और इसके लाभ (Drip irrigation system and its benefits)

ड्रिप इरिगेशन सिस्टम (drip irrigation system) को टपक सिंचाई प्रणाली भी कहते हैं। कम पानी में अधिक खेत की सिंचाई करने के लिए यह एक बेहतरीन विधि है। इस विधि से पाइप की सहायता से फसल तक पानी पहुंचाया जाता है। इससे फसल में बूंद-बूंद करके पानी मिलता है। इसीलिए इसे टपक विधि से सिंचाई कहते हैं। इससे पानी केवल पौधों तक ही पहुंचता है।

ड्रिप इरिगेशन सिस्टम तकनीक की सहायता से 60 से 70 प्रतिशत तक पानी की बचत होती है। इस विधि से फसलों की पैदवार में 150 प्रतिशत तक पानी की बचत होती है। इस विधि से पूरे खेत में नमी न होने से कीटों का खतरा भी हो हो जाता है। इस विधि में पानी साथ उर्वरक, दवा आदि मिलाकर सीधे पौधों को दिए जा सकते हैं। ड्रिप इरिगेशन सिस्टम (drip irrigation system) को लगाने में प्रति एकड़ करीब 57 हजार रुपए तक की लागत आती है। इसके लिए आप सरकार की योजनाओं का लाभ भी ले सकते हैं। सरकार इसके लिए अनुदान भी देती है।

ड्रिप इरिगेशन सिस्टम से सिंचाई होने वाली फसलें (crops irrigated by drip irrigation system)

यह विधि आमतौर पर सेब, अंगूर, संतरा, नींबू, केला, अमरूद, शहतूत, खजूर, अनार नारियल, बेर आम, टमाटर, बैंगन, खीरा, लौकी, कद्दू, फूलगोभी, बंदगोभी, आलू, प्याज, कपास, गन्ना, मक्का, मूंगफली, गुलाब और रजनीगंधा जैसी फसलों में इस्तेमाल की जा सकती है। ड्रिप इरिगेशन सिस्टम (drip irrigation system) बागवानी के लिए सबसे उपयुक्त होता है। टपक विधि से बागवानी करने से किसान भाइयों को सिंचाई में बहुत ही कम लागत आती है। 

ये तो थी, ड्रिप इरिगेशन सिस्टम (drip irrigation system) की बात। यदि आप इसी तरह कृषि, मशीनीकरण, सरकारी योजना, बिजनेस आइडिया और ग्रामीण विकास की जानकारी चाहते हैं तो इस वेबसाइट की अन्य लेख जरूर पढ़ें और दूसरों को भी पढ़ने के लिए शेयर करें। 

ये भी देखें- 

Related Articles

Back to top button