काम की खबरबिजनेस आइडिया

बैंक मित्र कैसे बनें, यहां जानें | Bank mitra kaise bane

मिनी बैंक यानी ग्राहक सेवा केंद्र या कस्टमर सर्विस प्वांइट। इसे बैंक सीएसपी या बीसी (banking correspondent) आउटलेट भी कहा जाता है

मिनी बैंक कैसे खोलें, यहां जानें

Bank mitra kaise bane: यदि आपके पास कोई काम नहीं है और आप एक अच्छा बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो आपके लिए मिनी बैंक खोलना एक अच्छा आप्शन है। बेरोजगार युवाओं और रिटायर्ड व्यक्तियों के लिए मिनी बैंक (mini bank) स्वरोजगार का सबसे अच्छा साधन है। 

मिनी बैंक यानी ग्राहक सेवा केंद्र या कस्टमर सर्विस प्वांइट। इसे बैंक सीएसपी या बीसी (banking correspondent) आउटलेट भी कहा जाता है। सीएसपी को संचालित करने वालों को बैंक मित्र या बैंकिंग कॉरेस्पॉडेंट (banking correspondent) कहते हैं। 

कब हुई मिनी बैंक की शुरुआत 

प्रधानमंत्री जन-धन योजना को लागू करते समय ग्रामीण क्षेत्रों में प्राइवेट और सरकारी बैंकों द्वारा कस्टमर सर्विस प्वाइंट (सीएसपी) या बैंक कियोस्क खोले गए थे। जिन्हें बैंक मित्र संचालित करते हैं। 

वर्तमान समय में हम किसी बैंक का मिनी ब्रांच या ग्राहक सेवा केंद्र खोल कर अच्छी इन्कम कर सकते हैं।

दरअसल ऐसे काफी गांव हैं जहां आज भी बैंक की पहुंच न के बराबर है। ऐसे में आप अपने दूर-दराज के गांव में एक मिनी बैंक खोल सकते हैं।

बैंक से कैसे जुड़ें

अगर आप कस्टमर सर्विस प्वॉइंट खोलना चाहता है या बैंक मित्र बनना चाहता है। तो इसके लिए आपको ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं। किसी भी अधिकृत बैंक के पास जाकर डायरेक्ट डील कर सकते हैं। इसके अंतर्गत पब्लिक और प्राइवेट सेक्टर दोनो बैंक आती हैं।

कैसे खोलें मिनी बैंक (मिनी बैंक खोलने की प्रक्रिया)

अगर आप बैंकिंग क्षेत्र में रुचि रखते हैं तो आप भी एक कस्टमर सर्विस पॉइंट खोल सकते हैं। जैसा कि आपको पहले बता चुके हैं कि जनधन योजना के तहत आप शहर या गांव में कहीं भी मिनी बैंक खोल सकते हैं जहां आपकों बैंक की तरफ से फिक्स सैलरी भी मिलेगी और साथ ही आप जो भी बैंकिंग सर्विस कस्टमर को देंगे उसका कमीशन अलग मिलेगा। 

मिनी बैंक में मिलेंगी ये सुविधाएं 

मिनी बैंक या कस्टमर सर्विस पॉइंट में आपको बैंक सम्बन्धी निम्न सुविधाएं मिलेंगी।

  • सेविंग अकाउंट खोलने की सुविधा 
  • आरडी या एफडी खोलने की सुविधा 
  • कैश डिपाजिट या विड्राल करने की सुविधा 
  • ओवरड्राफ्ट सर्विस 
  • किसान क्रेडिट कार्ड 
  • पेंशन अकाउंट 
  • इंश्योरेंस और म्यूच्यूअल फण्ड प्रोडक्ट्स की बिक्री 
  • क्रेडिट कार्ड की सुविधा  

मिनी बैंक के लिए ऐसे करें आवेदन

सीएससी लेने के लिए आपको सबसे पहले सीएससी बैंकिंग पोर्टल  की आधिकारिक वेबसाइट http://bankmitra.csccloud.in/ पर जाना होगा। जिस पर जाने के बाद आपको New bank Mitra रजिस्ट्रेशन के लिए VLE registration कराने के लिए New user पर क्लिक करना होगा। सामान्य तौर पर CSC New Bank Mitra रजिस्ट्रेशन पूरा करने के लिए आपको 6 चरण पूरे करने होते हैं। 

बैंक मित्र रजिस्ट्रेशन हो जाने के बाद आप CSC के माध्यम से आप पब्लिक सेक्टर के पंजाब नेशनल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, यूको बैंक, सिंडिकेट बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया और इंडियन बैंक के बैंकिंग कोरेस्पोंडेंट या CSC Bank Mitra बन सकते हैं।

मिनी बैंक (CSP)खोलने के लिए डाक्यूमेंट्स 

अपना खुद का मिनी बैंक या कस्टमर सर्विस पॉइंट खोलने के लिए सबसे ज़रूरी है IIBF certificate (आईआईबीएफ सर्टिफिकेट)। यह सर्टिफिकेट आपको इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ बैंकिंग एंड फायनेंस की ओर से कराए गए एक टेस्ट को पास करने पर मिलता है। जिसके बाद आप मिनी बैंक (CSP) लेने के लिए रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।

इसके अलावा सीएससी बैंकिंग सुविधा देने के लिए आपको कॉमन सर्विस सेंटर का संचालक होना भी अनिवार्य है। इसके लिए आपकी उम्र 18 साल से ज्यादा होनी चाहिए। 

  • आईडी प्रूफ के रूप में आधार कार्ड, पैन कार्ड, ड्राइविंग लाईसेन्स या वोटर आईडी कार्ड का होना जरूरी है। 
  • रेजिडेंशियल प्रूफ 
  • बिज़नस एड्रेस प्रूफ में बिजली का या टेलीफोन का बिल
  • दसवीं की मार्कशीट 
  • पुलिस द्वारा वेरीफाईड करैक्टर सर्टिफिकेट 
  • बैंक अकाउंट डिटेल, पासबुक और कैंसिल चेक 
  • दो पासपोर्ट साइज़ फोटो

कितना करना होगा इन्वेस्टमेंट 

अक्सर लोगों को लगता है की बैंक खोलना है तो न जाने कितना खर्चा होगा। पता नहीं हम यह कर पाएंगे या नहीं, लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है। मिनी बैंक खोलने के ललिए ज्यादा लागत लगाने की आवश्यकता नहीं पड़ती। इन्वेस्टमेंट के रूप में- 

  • 100 स्क्वायर फुट की जगह 
  • डेस्कटॉप या लैपटॉप 
  • प्रिंटर 
  • स्कैनर
  • इन्टरनेट कनेक्शन 

लोन के लिए भी कर सकते हैं अप्लाई  

मिनी बैंक खोलने के लिए बैंक से आप लोन भी ले सकते हैं। आपको कुल लोन सवा लाख तक का मिल सकता है। 

कितनी होगी इनकम

बैंक मित्र बनने पर आपको बैंक की तरफ से एक फिक्स सैलरी मिलती है। ज़्यादातर बैंक 5000 या उससे अधिक देते हैं। और इसके अलावा बैंक अकाउंट खोलने से लेकर हर ट्रांजेक्शन तक अलग कमीशन मिलता है। इस तरह बैंक मित्र के रूप में आपकी इन्कम 25 से तीस हज़ार हो सकती है।

कहां खोलना चाहते हैं

कस्टमर सर्विस प्वॉइंट खोलने के लिए आपके पास शहर, कस्बे और गांव हर जगह मौका मिल सकता है। सिटी में यह वार्ड के आधार पर खोले जाते हैं जबकि गांवों में बैंक अपने एरिया के आधार पर बैंक मित्र और कस्टमर सर्विस प्वॉइंट सेलेक्ट करते हैं।

कौन होते हैं बैंक मित्र

जो व्यक्ति बैंक खाते खुलवाने, बीमा करवाने, पैसे जमा करवाने समेत अन्य बैंक के कामों में अन्य लोगों की मदद करते हैं उन्हें बैंक मित्र कहा जाता है। बैंक मित्र बनने के लिए आपको सरकार के साथ जुड़कर काम करना होगा।

जहां बैंक नागरिकों को बैंकिंग सेवाएं प्रदान नहीं कर सकते, उन स्थानों पर बैंक मित्र एक एजेंट के रूप में कार्य कर रहा है। आज बैंक मित्र मूल रूप से बैंकों के प्रतिनिधि की तरह काम करता है और प्रधानमंत्री जन-धन योजना के तहत खाता खोलने में सभी प्रकार की सहायता प्रदान करता है। तेज़ी से तरक्की की ओर जा रहे देश के विकास में सुदूर इलाकों की बैंकिंग व्यवस्था मील का पत्थर साबित होगी।

ऐसे में बैंकों के सेवा केंद्रों के माध्यम से लोगों को बैंक से जोड़ रहे बैंक मित्रों का योगदान सराहनीय है। समाज के निचले वर्ग के लोगों को बैंक से जोड़ने में अति महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे बैंक मित्रों का भविष्य काफ़ी उज्ज्वल है। बैंक मित्र न केवल राष्ट्र निर्माण में ख़ास भूमिका निभा रहे हैं, बल्कि स्वयं के लिए स्वरोज़गार भी पैदा कर रहे हैं।

Related Articles

Back to top button